शिक्षक दिवस पर भाषण 2021 | Teachers Day Speech in Hindi

शिक्षक दिवस 5 सितम्बर को हर साल बड़े धूम धाम से माया जाता है. इसे इंग्लिश में Teachers Day कहते है. पूर्व राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन ने शिक्षक के रूप में अपना पूरा जीवन बिताया इसी के चलते छात्रों ने मिल कर डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन जन्म दिन मनाने की बात कही लेकिन डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन जी ने कहा अगर मेरे जन्म दिन को शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाये तो मुझे बहुत खुसी होगी उसी दिन से हर साल 5 सितम्बर को शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है.

इस दिन स्कूल, कॉलेज, कोचिंग सेंटरों में प्रोग्राम भी आयोजित किये जाते है जिस में छात्र हिसा लेते है कोई भाषण सुनाता है तो कोई, नाटक कर टीचर्स का आभार वेक्त करता है. इसी लिए इस लेख में हम शिक्षक दिवस पर भाषण (Teachers Day Speech in Hindi) लेकर आये है जिस को आप भाषण की तयारी में या फिर इसे भाषण देने के लिए भी प्रयोग कर सकते है.

Teachers Day Special Speech in Hindi

शिक्षक दिवस भाषण (Teachers Day Special Speech in Hindi)

यहाँ पर उपस्तिथ सभी शिक्षक, शिक्षिकाएं के साथ मेरे प्यारे मित्रो को मेरा नमस्कार Teachers Day के पावन अवसर पर में भाषण देना चाहता हूँ जिस के जरिये में शिक्षक, शिक्षिकाएं का आभार प्रकट कर सकू मुझे उम्मीद है आप सभी को मेरा भाषण जरुर से पसंद आये गा.

शिक्षक के बिना जीवन की कामना भी नहीं की जा सकती क्योकि शिक्षक एक एसी ज्योति है जो जीवन भर हमारे अंदर ज्ञान का उजाला करती रहती है. वो शिक्षक ही है जिस के बल पर हमे ज्ञान की प्राप्ति होती है. शिक्षक किसी छात्र के साथ भेद भाव नहीं करता वो सभी को समान ज्ञान देता है.

महान कवि कबीरदास ने भी कहा है अगर हमारे सामने भगवान् और गुरु खड़े हो तो हमे सबसे पहले गुरु को प्रणाम करना चाइये. जिस तरह व्रक्ष को बढ़ा होने के लिए जल की जरूरत होती है उसी तरह एक छात्र को जीवन का ज्ञान प्राप्त करने के लिए गुरु की आवशकता होती है.

गुरु ने ही मुझे इतना योग्य बनाया है की में दुनियाँ को समझ सकू. गुरु की हमेसा इजत करे क्योकि वो गुरु ही है जो जीवन भर अपने छात्रों को सिखाने में जीवन निकाल देता है. Teachers Profession ही महान Profession है.

अपने शब्दों को विराम देते हुवे कहना चहुँ गा माता-पिता की मूर्त है गुरु, कलुग में भगवान की सूरत है गुरु. यहाँ पर उपस्तिथ सभी को Happy Teachers Day.

शिक्षक दिवस पर भाषण हिंदी में

सभी शिक्षक, शिक्षिकाएं को मेरा सादर प्रणाम और मेरे प्यारे मित्रो को भी मेरा प्रणाम शिक्षक दिवस के अवसर पर में अपने विचार भाषण के ऊपर में आपके सामने पेश करना चाहता हूँ और मुझे उम्मीद है आपको ये जरुर पसंद आये गें.

पूर्व राष्ट्रपति डॉ. राधाकृ सर्वपल्लीष्णन जी के जन्म दिन को हर साल शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है राधाकृ सर्वपल्लीष्णन एक राष्ट्रपति के साथ – साथ एक अच्छे अध्यापक भी थे. एक बार उन का आभार प्रकट करने के लिए अध्यापकओ और बच्चो ने उन का जन्म दिन बनाने की बात उन से कही तो राधाकृ सर्वपल्लीष्णन जी ने कहाँ अगर आप लोग मेरा जन्म दिन बनाना ही चाहते हो तो इसे शिक्षक दिवस के रूप में बनाव तो मुझे ज्यादा ख़ुशी होगी.

उसी दिन से लेकर हर साल 5 सितम्बर को शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है. इस दिन बच्चे अध्यापकओ का आभार प्रकट करते है. इस दिन स्कूल, कॉलेज में प्रोग्राम आयोजित किये जाते है जिस में बच्चे भाग लेकर अपनी प्रतिभा अनुसार प्रदर्शन करते है.

हमारे जीवन में अध्यापक का बहुत ही बड़ा महत्व है गुरु के बिना मनुष्य का कोई भी अस्तित्व नहीं है वो गुरु ही है जो हमे दुनियाँ से रूबरू कराता है. साथ में हमे कैसे दुनियाँ में रहना है वो भी सिखा कर हमे सफलता के मार्ग पर चलाता है.

गुरु बीन तो हम ऐसे है जैसे जल बीन मछली गुरु हमे अपने जीवन भर के अनुभव हमे बता कर हमारा मर्ग दर्शन करता है व् महान कवि कबीरदास जी ने भी कहाँ है भगवान् से भी बड़ा दर्जा एक गुरु का होता है यही नहीं उन्होंने कहाँ है अगर भगवान और गुरु एक साथ हमारे सामने आ जाये तो सबसे पहले प्रणाम हमे गुरु का करना चाइये. 

वो शिक्षक ही है जिस ने मुझे बोलना सिखाया है और प्रतियोगिता में भाग लेने के लिय प्रेरित किया है एक छात्र के जीवन में शिक्षक की अहम् भूमिका रहती है. वो शिक्षक ही है जो बच्चे को पढ़ा लिखाकर एक बड़ा अफसर बताता है.

आखिर में सभी शिक्षक, शिक्षिकाएं का आभार प्रकट करता हूँ जिन्होंने मुझे इस योग्य बनाया की में आप सभी के सामने मंच पर बोल सकू आपको मेरी तरह से Teachers Day की हार्दिक बधाई धन्यवाद!

Short Speech On Teachers Day in Hindi, Teachers Day Speech in Hindi For School

Teachers Day Speech in Hindi For School

यहाँ पर उपस्तिथ सभी को मेरा प्रणाम शिक्षक दिवस के अवसर पर में भाषण पेश करना चाहता हूँ और आसा करता हूँ आपको ये बहुत पसंद आये गा.

शिक्षक ने ही मुझे इस योग्य बनाया है की में आपके सामने बोल पा रहा हूँ गुरु तो एक मोमबती के समान है जो खुद जल कर छात्रों को ज्ञान देता है. हमारे दुसरे राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन भी एक शिक्षक थे जिस ने छात्रों को ज्ञान दिया और काफी नाम कमाया. उन्ही के जन्म दिन को हम शिक्षक दिवस रूप में मनाते है और इन का आभार प्रकट करते है साथ में अपने शिक्षक, शिक्षिकाएं की प्रसंसा करते है.

माता पिता हमे खिला पिला कर बड़े करते है लेकिन गुरु हमे अच्छे बुरे की पहचान कराता है अब में शिक्षक दिवस पर कविता पेश करना चहुँ गा.

शिक्षक वो महान पुरुष है जिसकी मौजूदगी हमें जीवन में सफलता के शिखर तक पहुँचाने के लिए बहुत ही जरुरी है. वो हमारे जीवन के मुश्कील पड़ाव में हमारा मार्गदर्शक करते है और सफलता हासिल करने पर हमारी पीठ थपथपाते है. जीवन के किसी न किसी पड़ाव में हर व्यक्ति को शिक्षक की आश्यकता होती है जो अच्छे मुकाम हासिल करने में उसका मार्गदर्शन करें.

गुरु कुम्हार शिष्य कुम्भ गढ़ि गढ़ि काढ़ै खोट 
भीतर हाथ सहार दे बाहर बाहै चोट

दुनिया में बड़े से बड़े सफल व्यक्ति की सफलता के पीछे किसी न किसी प्रकार से एक शिक्षक का योगदान जरूर होता है लेकिन शिक्षक के बारे में बहुत कम चर्चा होती है. समाज में शिक्षक के महत्वपूर्ण योगदान के लिए उन्हें सम्मानित करने के लिए हर वर्ष शिक्षक दिवस मनाया जाता है. इस लेख में शिक्षक दिवस पर 10 लाइन लिखी गयी है जो विद्यार्थियों के लिए महत्वपूर्ण है.

शिक्षा दिवस पर 10 लाइनें  (Teachers Day Par 10 Line in Hindi) 

  1. शिक्षकों को सम्मानित करने के लिए भारत में हर वर्ष 5 सितम्बर को राष्ट्रीय शिक्षक दिवस के रूप में बहुत धूमधाम से मनाया जाता है और अंतर्राष्ट्रीय शिक्षक दिवस विश्व भर में 5 अक्टूबर को मनाया जाता है.
  2. भारत के द्वितीय राष्ट्रपति और एक महान शिक्षक डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्ण के जन्मदिवस के सम्मान में शिक्षक दिवस को मनाया जाता है और देश भर में सभी शिक्षकों को सम्मानित किया जाता है.
  3. सर्वपल्ली डॉक्टर राधाकृष्ण आजाद भारत के पहले उपराष्ट्रपति और दूसरे राष्ट्रपति थे उनका जन्म 5 सितम्बर 1888 को तिरुमणी मद्रास में एक ब्राह्मण परिवार में हुआ था. सन 1952 से 1962 तक वो भारत के उपराष्ट्रपति रहे थे उसके बाद 1962 में वो भारत के राष्ट्रपति के रूप में निर्वाचित हुए.
  4. भारत रत्न डॉ राधाकृष्णन के विद्यार्थियों ने उनका जन्मदिन मनाने की बात कही तो उन्होंने कहा कि मेरा जन्मदिन अलग से मनाने की बजाय अगर शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाएगा को मुझे बहुत ख़ुशी होगी.  
  5. शिक्षक दिवस के दिन विद्यालय में शिक्षकों को विद्यार्थियों के द्वारा उपहार देकर सम्मानित किया जाता है और बहुत ख़ुशी व उत्साह के साथ कार्यक्रम का भी आयोजन किया जाता है.
  6. बहुत से विद्यालयों में इस दिवस पर विद्यार्थी अपने पसंदीदा शिक्षक की भूमिका निभाते है उस दिन विद्यार्थी एक शिक्षक के रूप में बच्चों को पढ़ाते भी है और वो सारी गतिविधियां करते है जो एक शिक्षक करता है.
  7. शिक्षक दिवस पर भारत के राष्ट्रपति के द्वारा शिक्षा के क्षेत्र में अपना महत्वपूर्ण योगदान देने वाले शिक्षकों का चुनाव किया जाता है और उन्हें ‘राष्ट्रीय शिक्षक पुरूस्कार’ से सम्मानित किया जाता है.
  8. भारत के अलावा दुनिया के चीन, जर्मनी, बांग्लादेश, पाकिस्तान, ऑस्ट्रेलिया, श्रीलंका, ईरान आदि जैसे 21 और देशों में शिक्षक दिवस 5 सितम्बर को ही मनाया जाता है और 11 अन्य देशों में शिक्षक दिवस 28 फरवरी को मनाया जाता है.
  9. शिक्षक दिवस पर सभी शिक्षकों के मन में भी उत्साह रहता है छात्रों के अलावा समाज में अन्य लोग भी उनका सम्मान करते है उपहार देते है जिसके कारण शिक्षा के प्रति एक शिक्षक का हौसला और भी बढ़ जाता है. इस प्रकार सम्मान मिलने से शिक्षक को भी अपने आप पर गर्व महसूस होता है.
  10. शिक्षक दिवस मनाने के पीछे मूल भावना यह है कि शिक्षा के क्षेत्र में अपना महत्वपूर्ण दे रहे शिक्षकों को उचित सम्मान मिले. एक शिक्षक का विद्यार्थी के जीवन और मानव समाज के विकास में महत्वपूर्ण योगदान होता है लेकिन उनको उचित सम्मान नहीं दिया जाता था. 

गुरु के बिना शिष्य का जीवन अंधकार जैसा प्रतीत होता है प्राचीन काल से ही हर व्यक्ति के जीवन में शिक्षक बहुत महत्व रहा है. महाभारत काल में पाण्डवों और कौरवों के गुरु द्रौणाचार्य, रामायण काल में भगवान श्री राम के गुरु महर्षि विश्वामित्र जैसे महान गुरु हुए है. सूर्य पुत्र करने ने तो गुरु के सम्मान के लिए अपना अँगूठा काट कर गुरु दक्षिणा में भेट कर दिया था. अतः हर व्यक्ति को हर शिक्षक का शिक्षक दिवस के मौके पर ही नहीं बल्कि हर दिन सम्मान करना चाहिए.        

शिक्षक दिवस पर कविता (Shiksha Diwas Par Kavita)

गुरु का महत्व कभी होगा न कम!
भले करले कितनी भी उन्नति हम!
वैसे तो है इंटरनेट पर हर प्रकार का ज्ञान!
पर अच्छे बुरे की नहीं उसे पहचान!
नहीं है शब्द कैसे करूँ धन्यवाद!
बस चाहिए हर पल आप सबका आशीर्वाद!
हूँ जहाँ आज मैं उसमें है बड़े योगदान!
आप सबका जिन्होंने दिया मुझे इतना ज्ञान!
आपने बनाया है मुझे इस योग्य!
कि प्राप्त करूं मैं अपना लक्ष्य!
दिया है हर समय आपने सहारा!
जब भी लगा मुझे मैं हारा!
करता हूँ दिल से आप सब का सम्मान!
आप सबको है मेरा शत-शत प्रणाम!!
!!हैप्पी टीचर्स डे!!

इन्हें भी जरुर पढ़े :

निष्कर्ष : मुझे उम्मीद है आपको ये Teachers Day Speech in Hindi, Speech On Teachers Day, Speech On Teachers Day in Hindi, Speech For Teachers Day in Hindi पसंद आये है अगर आपका कोई प्रशन या सुजाव है तो आप कमेंट कर सकते है दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर स्पीच को जरुर शेयर करे धन्यवाद!

Leave a Comment