कोरोना जागरूकता पर निबंध

दिसंबर 2021 को पहली बार चीन के वुहान शहर में कोरोना वायरस बीमारी के पहले मरीज की पुष्टि की गयी और उसके बाद यह बीमारी पूरे विश्व में तेजी से फैली और लाखों लोगों को संक्रमित किया. विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इस बीमारी के खतरे को देखते हुए इसे 11 मार्च 2020 को वैश्विक महामारी घोषित किया.  एक के बाद एक कोरोना मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ने के कारण दुनिया के लगभग सारे देशों ने सम्पूर्ण लोकडाउन लगाया गया.

भारत सरकार ने भी इस महामारी की गंभीरता को देखते हुए पूरे देश में सम्पूर्ण लॉकडाउन लगाने का फैसला किया. देश के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के द्वारा 24 मार्च 2020 को देश को संबोदित करते हुए 21 दिनों तक सम्पूर्ण लॉकडाउन का एलान किया और फिर धीरे-धीरे लॉकडाउन की अवधि को बढ़ाया गया. इस लेख में कोरोना जागरूकता पर निबंध लिखा गया है जो सभी कक्षाओं के विद्यार्थियों के लिए उपयोगी है.

कोरोना जागरूकता पर निबंध

corona jagrukta par nibandh

कोरोना वायरस विभिन्न प्रकार के वायरस का समूह है जो हमारे शरीर में प्रवेश करके श्वसन तंत्र को प्रभावित करता है. यह वायरस धीरे-धीरे फेफड़ो को प्रभावित करने लगता है और समय रहते इलाज शुरू नहीं किये जाने पर मरीज की मृत्यु भी हो सकती है. कोरोना एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में तेजी से फैलता है और कोरोना मरीज के संपर्क में आने वाले व्यक्ति को संक्रमण होने की ज्यादा संभावना होती है.

इस बीमारी को COVID 19 नाम दिया गया जहां CO- कोरोना के लिए, VI- वायरस के लिए, D- डिज़ीज़ के लिए और 19- 2019 के लिए है. कोरोना का अभी तक कोई विशेष उपचार नहीं है इसलिए डॉक्टर आपस में दूरी बनाये रखने और मास्क लगाने की सलाह देते है ताकि इस बीमारी से अपने आप को बचाया जा सके. अब तो कोरोना की वैक्सीन भी आ चुकी है जो हमारे शरीर को इस वायरस से लड़ने के लिए मजबूती प्रदान करेगी.

कोरोना वायरस समय के साथ अलग-अलग रूप ले रहा है दुनिया के विभिन्न देशों में इस वायरस के बहुत सारे वेरिएंट मिले जो कि बहुत ही खतरनाक है और तेजी से लोगों के बीच फैलते है. वायरस के इस प्रकार रूप बदलने के कारण ही भारत में लाखों लोग इस बीमारी से तेजी से संक्रमित हुए और कई लोगों को तो अपनी जान भी गंवानी पड़ी. 

कोरोना वायरस के लक्षण 

कोरोना से संक्रमित लोगो को साधारण खांसी, बुखार, जुखाम से लेकर गंभीर लक्षण हो सकते है यह वायरस अलग-अलग लोगों को अलग-अलग तरीके से प्रभावित करता है. इस वायरस से संक्रमित होने के बाद लक्षण दिखाई देने में 5 से 6 दिन लगते है और कुछ मामलों में 14 दिन भी लग सकते है. आम लक्षण होने पर मरीज घर पर ही डॉक्टर के संपर्क में रहकर ठीक हो सकता है और बहुत से लोग अपने घर पर ही क्वारन्टिन रहकर कोरोना से लड़ने में सफल भी हुए है.

कोरोना संक्रमण की शुरुआत में व्यक्ति को सूखी खासी, थकान, बुखार, सिर दर्द, गले में खरास, स्वाद का पता न चलना जैसी समस्या होने लगती है फिर धीरे-धीरे मरीज की हालत गंभीर होने लगती है और सांस लेने में दिक्कत, बोलने और चलने फिरने में तकलीफ, सीने में दर्द जैसे गंभीर लक्षण दिखाई देते है. हालत गंभीर होने पर डॉक्टर से परामर्श करके मरीज को तुरंत हॉस्पिटल ले जाना आवश्यक होता है.

कोरोना वायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता है जब एक कोरोना मरीज खांसता या छींकता है उसके शरीर से निकली हुई बुँदे हवा में तैरती है और दूसरे व्यक्ति के संपर्क में आने से उसके शरीर में प्रवेश कर उसे भी संक्रमित कर देती है.

भारत में कोरोना के प्रति लोगों की जागरूकता  

कोरोना महामारी ने पूरी दुनिया को आर्थिक, शारीरिक और मानसिक तरीके से प्रभावित किया है अमीर हो या गरीब कोई भी इस बीमारी से नहीं बच पाया. कोरोना वायरस बहुत ही घातक वायरस है लेकिन अगर इसके बारे में सही जानकारी हो तो आसानी से अपने आप को सुरक्षित रखा जा सकता है. कई लोग तो जानकारी के आभाव के कारण भी इस बीमारी के शिकार हो जाते है.

कोरोना के बारे में लोगों को जागरूक करने के लिए सरकार ने कई महत्वपूर्ण कदम उठाये है टीवी, सोशल मीडिया, गूगल जैसे कई ऑनलाइन प्लेटफार्म पर कोरोना से जुड़ी विभिन्न जानकारियाँ उपलब्ध करवा कर ज्यादा से ज्यादा लोगो को जागरूक करने  की कोशिश की जा रही है. 

अमिताभ बच्चन, अजय देवगन, अक्षय कुमार जैसे बड़े-बड़े अभिनेता भी टीवी पर आ कर पूरे देश की जनता को कोरोना के प्रति जागरूक कर लोगों से घर में रहने, मास्क लगाने और बार-बार हाथ धोने की सलाह दे रहे है ताकि इस बीमारी से सभी अपने आप को सुरक्षित रख सके.

कोरोना वायरस बीमारी का अभी तक विशेष इलाज मौजूद नहीं है इस बीमारी से सुरक्षा ही सबसे बड़ा इलाज है इसके लिए सभी को घर से बाहर निकलते समय मास्क लगाना और किसी भी वस्तु या व्यक्ति के सम्पर्क में आने के बाद हाथ धोना और सेनिटाइज करना जरुरी है. कोरोना की वैक्सीन भी आ चुकी है जो कोरोना से सुरक्षा का सबसे बड़ा हथियार है इसलिए कोरोना वैक्सीन लगवाना जरुरी है.

बहुत सी बार ऐसा पाया गया है कि कोरोना संक्रमित व्यक्ति के साथ रहने वाले लोगों की कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव मिली है क्योंकि कोरोना संक्रमित व्यक्ति और उसके साथ रहने वाले लोगों ने मास्क लगाया हुआ था इसलिए मास्क को भी कोरोना से लड़ने के लिए आवश्यक हथियार बताया गया है. किसी भी भीड़-भाड़ वाले इलाके में जाते वक्त मास्क का इस्तेमाल करना जरुरी है.

इन्हें भी पढ़े : –

निष्कर्ष

कोरोना महामारी बहुत ही घातक बीमारी है विश्व इतिहास में इस महामारी से सबसे ज्यादा लोगों ने अपनी जान गंवाई है. इतनी खतरनाक बीमारी होने के बावजूद भी लोग इसके प्रति लापरवाही बरत रहे है. सरकार के द्वारा बार-बार सख्त निर्देश दिए जाने के बावजूद भी लोग मास्क का उपयोग नहीं कर रहे है. यह सभी की जिम्मेदारी है कि प्रशासन के द्वारा जारी किये गए कोरोना दिशा निर्देशों का पालन करें. 

देश के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के द्वारा बार-बार टीवी  पर मन की बात कार्यक्रम को प्रसारित करके लोगों को कोरोना के प्रति जागरूक करने का प्रयास किया जाता है.   

Leave a Comment