संदेश लेखन

संदेश शब्द की उत्पत्ति संस्कृत से मानी जाती है। जिसका अर्थ समाचार या समाचार प्राप्त करना है। जब कोई व्यक्ति किसी कारणवश दूसरे व्यक्ति से सीधे बात नहीं कर पाता है तो वह किसी सूचना या समाचार या समाचार, संदेश के माध्यम से दूसरे व्यक्ति तक पहुँच जाता है। संदेश किसी विशेष व्यक्ति या समूह द्वारा किसी विशेष व्यक्ति या समूह को दिए जा सकते हैं। ये संदेश या तो लिखित या मौखिक हो सकते हैं। संदेश सुखद और दुखद दोनों हैं। कोई भी संदेश व्यक्तिगत या सामूहिक हो सकता है। संदेशों को भूत काल, वर्तमान काल और भविष्य काल में लिखा जा सकता है।

संदेश लिखने का कारण

संदेश लिखने के कई कारण हो सकते हैं। संदेश औपचारिक और अनौपचारिक दोनों हो सकते हैं। एक अनौपचारिक संदेश या व्यक्तिगत संदेश आपके किसी करीबी को कोई संदेश/सूचना देने के लिए लिखा जाता है। अनौपचारिक संदेश किसी के परिवार, दोस्तों, रिश्तेदारों या परिवार के सदस्यों को लिखे जाते हैं।

औपचारिक संदेश किसी अधिकारी या किसी कार्यालय के कर्मचारी या आम जनता के लिए सार्वजनिक रूप से लिखे जा सकते हैं। यदि संदेश किसी नेता या अभिनेता द्वारा दिया जाता है तो वह आम लोगों को प्रभावित करने के उद्देश्य से लिखा जाता है। यह सार्वजनिक संदेश व्हाट्सएप, एसएमएस, ईमेल, फेसबुक ट्विटर आदि जैसे संदेश भेजने का सबसे अच्छा साधन है। कई सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म हैं जिनके माध्यम से संदेश भेजे जा सकते हैं।

संदेश लेखन प्रकार

संदेश लेखन

संदेश निम्न प्रकार के होते हैं।

(1) अभिवादन संदेश

ग्रीटिंग संदेश मुख्य रूप से किसी व्यक्ति के जन्मदिन, या वर्षगांठ के अवसर पर, छात्रों को उनकी परीक्षा में सफलता प्राप्त करने और कर्मचारियों को पदोन्नत किए जाने के अवसर पर भेजे जाते हैं, ग्रीटिंग संदेश कहलाते हैं।

(2) त्योहार और त्योहार का संदेश

खास त्योहारों पर लोग एक-दूसरे को ऐसे मैसेज भेजते हैं। दिवाली, होली, क्रिसमस और स्वतंत्रता दिवस जैसे विशेष अवसरों पर संदेश शामिल हैं।

(3) शोक संदेश

इस तरह के मैसेज लोगों को किसी व्यक्ति की पुण्यतिथि या पुण्यतिथि पर भेजे जाते हैं।

(4) व्यक्तिगत संदेश

परिवार के सदस्यों को बधाई और शुभकामनाएं संदेश, जाने या आने का संदेश या किसी अन्य प्रकार का संदेश जो केवल परिवार के सदस्यों को दिया जाता है।

(5) सामाजिक संदेश

धार्मिक या सामाजिक कार्यक्रमों से संबंधित आयोजनों के संदर्भ में संदेश दिए जाते हैं। पर्यावरण दिवस पर संदेश, जल बचाओ संदेश, बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ आदि अवसरों पर दिए गए संदेश भी महत्वपूर्ण हैं।

(6) मिश्रित संदेश

मिश्रित संदेश में वर्तमान कोरोना महामारी से संबंधित संदेश, डेंगू, मलेरिया आदि से संबंधित संदेश, बाढ़, भूकंप आदि से संबंधित संदेश या देश से संबंधित कोई भी संदेश हो सकता है।

संदेश लिखते समय निम्नलिखित बातों का ध्यान अवश्य रखना चाहिए।

  • सबसे पहले संदेश को एक बॉक्स या सर्कल की तरह एक सीमा रेखा के अंदर लिखना चाहिए।
  • शुरुआत में “संदेश” शब्द अवश्य लिखें। उसके बाद दिनांक और समय लिखें।
  • फिर मुख्य विषय को छोटे लेकिन प्रभावी शब्दों में बताएं।
  • संदेश लिखने वाले का नाम अंत में अवश्य लिखें।
  • संदेश लेखन की शब्द सीमा 30 से 40 शब्दों के बीच होनी चाहिए।
  • यदि चित्रों का उपयोग करना उचित हो तो विषय के अनुसार किया जा सकता है।
  • शायरी, दोहे, श्लोक, या कविता की आवश्यकता हो तो उसका प्रयोग कर सकते हैं।
  • संदेश रचनात्मक और रचनात्मक होना चाहिए।
  • संदेश को प्रभावी ढंग से और विषय के अनुसार सरल और संक्षिप्त शब्दों में लिखना आवश्यक है।
  • रंगों का इस्तेमाल सब्जेक्ट के हिसाब से भी किया जा सकता है।
  • मैसेज के अंदर इधर-उधर की बातें न लिखकर केवल विषय वस्तु पर ध्यान देना बहुत जरूरी है।

संदेश लेखन प्रारूप

(1) अधिकृत संदेश लेखन का प्रारूप

                             संदेश

दिनांकित : …….

समय:……

संबोधन ………

…………………………………………..

………………………………………………………………………………………………

…………………………………………..

अपना नाम

(2) अनधिकृत संदेश लिखने का प्रारूप

                            संदेश

दिनांकित : …….

समय :

सम्बोधन

………………………………………………………।

………………………………………………………।

और अपना नाम

By admin

A professional blogger, Since 2016, I have worked on 100+ different blogs. Now, I am a CEO at Speech Hindi...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *